Copy This code has the following

Rice or Roti | कौन सा अनाज अच्छा है

भारतीय खाने के सबसे कॉमन 2 अनाज रोटी और चावल (Rice or Roti) है जिसको हर घर में खाया जाता है और ये आपके रोज की डाइट है हिस्सा है। पर क्या आप जानते हो इनमे से कौन सा अनाज बेहतर है और इसमें कौन सी verity बेहरत है ये भी जानना बहुत ही ज्यादा जरुरी है।

और ये भी जानना जरुरी है की जो आप खा रहे है वो आपके शरीर के लिए बेहतर है या नहीं। आजके इस पोस्ट में आपको सबकुछ सही से जानने को मिलेगा जिससे आप समझ पाओगे की आपको Rice or Roti में से कौन सा अनाज कब, कितना,कैसे और कितनी मात्रा में खाना चाहिए। जिससे आपको उसका पूरा फायदा मिल सके।

Nutritional Information (Rice or Roti)

सबसे पहले जानते है Rice or Roti के न्यूट्रिशनल वैल्यू के बारे में कुछ कॉमन फैक्ट्स का जिसके बारे में इससे पहले अपने नहीं सुना होगा। क्युकी यही दो कॉमन अनाज है जो ज्यादा तर लोग खाते है इस पोस्ट को पूरा पढ़ने पर आपको क्लियर हो जाएगा की कौन सा अनाज आपके लिए सबसे ज्यादा उत्तम है।

रोटी (Roti ) – एक मीडियम साइज रोटी देती है आपको 20 ग्राम complex carbs, 3.5 ग्राम प्रोटीन, 2.5 ग्राम Dietary fibre, 0.7 ग्राम fat .

चावल (Rice) – एक कप पाकी हुई सफ़ेद चावल (White Rice) 242 कैलोरी, 53 ग्राम सिंपल carbs, 4.43 ग्राम प्रोटीन, 0.7 ग्राम Dietary fiber, 0.8 ग्राम fats .

अगर सिर्फ हम Micro nutrient को देखे तो रोटी ज्यादा अच्छा है क्युकी ये साबुत अनाज से बनती है जबकि सफ़ेद चावल का छिलका उतारा जाता है, इसी वजह से साबुत अनाज में एंटीऑक्सीडेंट और मिनरलस की मात्रा ज्यादा होती है जो हमारी स्किन, हेयर और पुरे बॉडी पार्ट्स के लिए बहुत ही ज्यादा जरुरी है।

Glysemic Index – हमें रोटी और राइस के ग्लिसेमिक इंडेक्स के बारे में भी पता होंन बहुत ही ज्यादा जरुरी है। ग्लिसेमिक इंडेक्स वो पारा मीटर है जिससे पता चलता है कितना ये फ़ूड आपके ब्लड सुगर लेवल को इफ़ेक्ट करेगा। ग्लिसेमिक इंडेक्स जितना ज्यादा होगा उतना ही आपकी बॉडी के लिए ये ठीक नहीं है।

Rice or Roti

व्होल वीट रोटी का ग्लिसेमिक इंडेक्स है 62 जबकि वाइट राइस का ग्लिसेमिक इंडेक्स है 73 . तो हम क्या समझे white Rice हमारे लिए Unhealthy है , नहीं ऐसा बिलकुल भी नहीं है।

ऐसा तो बिलकुल नहीं है की आप सर अपने डाइट में आप सिर्फ रोटी खा रहे है या फिर सिर्फ rice खा रहे है। चावल का ग्लिसेमिक इंडेक्स जयदा होता है फिर भी अहम् चावल के साथ हरी सब्जी, सलाद और छांछ भी ले रहे हो तो इस पूरी मील का ग्लिसेमिक इंडेक्स काम हो जायेगा और आपकी इंसुलिन लेवल भी सही रहेगी।

इसलिए ये क्लियर है आप रोटी खाओ या चावल ये आपकी पुरे खाने की प्लेट पर निर्भर करता है। तो आप निश्चित हो कर चावल भी अपने डाइट में शामिल कर सकते है। इसके साथ ही आज ये बात चली है तो तो आज ग्लूटन की भी बात कर लेते है।

ग्लूटन क्या है ?

ग्लूटन एक प्लांट प्रोटीन है जो गेहूं में होता है जबकि चावल में नहीं होता है, तो क्या गेहूं में ग्लूटन होने की वजह से हम रोटी को खाना छोड़ दे क्योकि पश्चिमी देशो में आजकल ग्लूटन फ्री डाइट का नया दौर चल रहा है।

आपको गळूरतं तभी छोड़ना चाहिए जब आपको इससे एलेर्जी हो जैसे की किसी को मशरूम से एलेर्जी है तो वो मशरूम खाना छोड़ देगा इसका मतलब ये बिल्कुल नही है की मशरूम UNHEALTHY है। ये और बात है रोटी खाने से थोड़ी बहोत digestion के प्रॉब्लम हो सकते है जिसको दूर किया जा सकता है जिसको हम आगे जानने वाले है।

चावल और रोटी (Rice or Roti) की कौन सी वेरिएटी बेस्ट है रोज खाने के लिए

डेली बेसिस में खाने के लिए किस तरह की वेरिएटी को ले ये जानना बहुत ही ज्यादा जरुरी है – सबसे पहले हम जानते है चावल क बारे में।

चावल में बहुत सारे वेरिएटी होते है जिसमे से एक है ब्राउन राइस। शुरू शुरू में मॉर्डन science में ब्राउन राइस की बहुत ज्यादा तारीफ की, क्योकि ब्राउन राइस में भरपूर मात्रा में फिबेर्स और माइक्रो न्यूट्रिएंट की मात्रा ज्यादा होती है पर बदलते समय के अनुशार रिसर्च में पता चला है की ब्राउन राइस में कुछ ऐसे एंटी न्यूट्रिएंट्स पाए जाते है जो शरीर में विटामिन और मिनरल्स की absorption को रोकता है और अब नई विज्ञान ब्राउन राइस को रेकमेंड नहीं करती

हलाकि हमारे देश के किसानो को हमेशा से पता था की हमारे शरीर के लिए कौन सी चावल अच्छी है। वो है हैंड पंप राइस या फिर इसे रेड राइस भी कहते है। रेड राइस खाने से हमारी बॉडी को वो सारे न्यूट्रीएंस मिलते है जो हमारी बॉडी की डिमांड होती है।

रोटी के वेरिएटी के बारे में जानते है

अब बात करते है रोटी की जो ज्यादातर साबुत अनाज से ही बनायीं जाती है। ये तो हम सभी जानते है जब गेंहू का छिलका उतार देते है तो सिर्फ मैदा ही रह जाता है जिसमे फाइबर और न्यूट्रिशंस न के बराबर ही होता है। साबुत अनाज अच्छा है पर आयुर्वेद के अनुशार ये शरीर में बहुत ज्यादा आलस लाने वाला अनाज है। इसलिए पूरा दिन सिर्फ गेहूं से बानी रोटी को खाते रहना सही नहीं होता है।

गेहूं के इस आलस इफ़ेक्ट को reduce करने के लिए गेंहू में कुछ दुषरे अनाज को भी मिक्स कर ले जिससे ये मल्टीग्रैन जाता बन जाता है। जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है।

रोटी और चावल को खाने का सही तरीका

रोटी के लिए टिप्स ( Tips for Roti )

कुछ टिप्स के साथ आप रोटी को बनाएंगे तो बहुत ही ज्यादा स्वादिस्ट और खाने में भी healthy और लाइट रहती है जिससे की रोटी खाने का पूरा फायदा हमारे शरीर को मिले

  • रोटी का आता गूथते समय थोड़ा ज्यादा टाइम दे, जितना ज्यादा आप आटे को गुठोगे उतना ही रोटी ज्यादा सॉफ्ट और हलकी बनेगी।
  • आता लगाते समय हल्का धनिया पाउडर को आते में मिक्स करें साथ ही थोड़ा नमक भी, फिर आटे को लगाए।
  • अगर आपको रोटी खाने के बाड़ा हैवी फील होता है तो अपने रोटी में घी न लगाए बल्कि उसके साथ जो भी सब्जी या दाल खा रहे हो उसमे घी लगाए जिससे की आपकी रोटी सही से डाइजेस्ट होगी।
  • रोटी को दिन में दो से ज्यादा बार बिलकुल न खाये।
  • अगर आप lunch में रोटी खा रहे हो तो खीरे का सलाद जरूर खाये और डिनर में रोटी खा रहे हो तो अदरक का सलाद या फिर अदरक का अचार खाने से रोटी जल्दी डाइजेस्ट होती है और आपको बहुत ही लाइट फील होता है।

चावल के लिए टिप्स ( Tips For Rice )

चावल बनाने से लेकर खाने तक के कुछ टिप्स है जिसको आप फॉलो करोगे आपके द्वारा बनाये हुए चावल स्वादिस्ट और अच्छे भी बनेंगे –

  • बहुत सारे लोग चावल बनाते समय पके हुए चावल का पानी बाहर फेक देते है जो की बहुत ज्यादा गलत है। इस चावल के पानी में बहुत ज्यादा स्टार्च होता है जो की हमारे बॉडी के लिए बहुत ज्यादा अच्छा होता है। यह स्टार्च हमारे शरीर को बड़ी मात्रा में पोषण देता है।
  • चावल को बनाने से पहले अच्छे से 4 से 5 बार अच्छे से धो ले और काम से काम २ घंटे तक भिगो कर रखे, और उसी पानी में बनाये जिसमे भिगो कर रखा है।
  • राइस बनाते समय उतना ही पानी रखे जितना जरुरी हो, जिसमे चावल अच्छे से पक जाए।
  • चावल आप ब्रेकफास्ट और लंच दनो में ही खा सकते है ,अगर आप चावल को डिनर में खाना चाहते है तो चावल पकाते समय बर्तन में आधी चम्मच काली मिर्च और दो तेज़पत्ता डाल दे।
  • क्योकि चावल की तासीर ठंडी होती है, अगर आप इसे रात को खाएंगे तो कफ, indigestion,वेट गेन, sinus और भी बहुत सारे परेशानिया हो सकती है क्योकि रात को हमारी digestion शक्ति कम होती है।

अब तो आप सभी जान गए होंगे अच्छी सेहत के लिए चावल या रोटी कुछ भी खाओ लेकिन सही समय और सही तरीके से खाना बहुत ही ज्यादा जरुरी है।

दोस्तों मैंने यहाँ कोशिश की है चावल और रोटी को ले कर सही जानकारी देने की। अगर आज ये पोस्ट पसंद आये तो आप सभी इस पोस्ट को Like जरूर करना और अपने प्यारे प्यारे कमेंट देना न भूले।

धन्यवाद

इसे भी पढ़े – यूरिक-एसिड-का-बढ़ना

Leave a comment

%d bloggers like this: